Zindagi Guzar Rahi Hai Imtehaano

Sad Shayari Image Download

sad shayari image download - zindagi guzar rahi hai imtehaano ke daur se ek zakhm bharta nahi aur dusra aane ki zid karta hai

ज़िन्दगी गुज़र रही है इम्तेहानों के दौर से,
एक जख्म भरता नहीं,
और दूसरा आने की ज़िद करता है॥

Leave a Comment