Kahaan The Kahaan Hai Aur Kahaan

Sad Shayari On Zindagi

sad shayari on zindagi - kahaan the kahaan hai aur kahaan tak girne ki teyaari hai insaani rishto me aakhir kyun mandi ka daur jaari hai

कहाँ थे, कहाँ है और कहाँ तक गिरने की तैयारी है,
इंसानी रिश्तो में आखिर क्यूँ मंदी का दौर जारी है॥

Leave a Comment